Monthly Archives: July 2014

Eidgah… by Munshi Premchand

ईदगाह मुंशी प्रेमचन्द रमजान के पूरे तीस रोजों के बाद ईद आयी है। कितना मनोहर, कितना सुहावना प्रभाव है। वृक्षों पर अजीब हरियाली है, खेतों में कुछ अजीब रौनक है, आसमान पर कुछ अजीब लालिमा है। आज का सूर्य देखो, … Continue reading

Posted in Uncategorized | Tagged , , , , , , , , , , , , , , , | Leave a comment