Category Archives: Pakistani Writers

Parmeshar Singh… by Ahmad Nadeem Qasmi

परमेशर सिंह अहमद नदीम कास्मी  उर्दू से हिन्दी: शीराज़ हसन  अख़्तर अपनी माँ से यूं अचानक बिछड़ गया जैसे भागते हुए किसी जेब से रुपया गिर पड़े. अभी था और अभी गायब. ठनडया पड़ी मगर बस इस हद तक कि लुटे-पिटे क़ाफ़िले … Continue reading

Posted in Pakistani Writers | Tagged , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , | Leave a comment

Toba Tek Singh… by Saadat Hasan Manto

टोबा  टेक सिंह सआदत हसन मंटो बंटवारे के दो-तीन साल बाद पाकिस्तान और हिंदुस्तान की हुकूमतों को ख़याल आया कि सामान्य क़ैदियों की तरह पागलों का भी तबादला होना चाहिए, यानी जो मुसलमान पागल हिंदुस्तान के पागलख़ानों में हैं, उन्हें … Continue reading

Posted in Indian Writers, Pakistani Writers | Tagged , , , , , , , , , , , , , , , , , , , | 1 Comment

Raste Band Hain… By Muhammad Mansha Yaad

“रास्ते बंद हैं” लेखक : मुहम्मद मनशा याद उर्दू से हिंदी : शीराज़ हसन वो मेला देखने आया हुआ है और उसकी जेब में फूटी कोड़ी नहीं| मैं उस से पूछता हूँ,”जब तुम्हारी जेब में फूटी कोड़ी नहीं थी, तो … Continue reading

Posted in Pakistani Writers | Tagged , , , , , , , , , , , , , , , , , , | Leave a comment

Lala Jaswant Singh Ki Haveli….by Mirza Hamid Baig

लाला जसवंत सिंह की हवेली मिर्ज़ा हामिद बेग़ उर्दू से हिंदी: शीराज़ हसन  वागाह से क्लेअरेंस के बाद जब समझोता एक्सप्रेस लाहौर रेलवे स्टेशन पहुंची तो चर्लोजी और काजू के पैकिट, पान छालिया के थैले, बनारसी और ज़रदोज़ी के बोरी (की बोरियां?) … Continue reading

Posted in Pakistani Writers | Tagged , , , , , , , , , , , , , , , , , , | 10 Comments

Hunooz Khawab Mein…. By Rasheed Amjad

हुनूज़ ख़ाब में…. लेखक: रशीद अमजद  [उर्दू से हिंदी तर्जुमा: शीराज़ हसन, इदारत: गीताली तारे] आग अब चारों तरफ थी, तपिश में इज़ाफ़ा[i] हो रहा था, लेकिन आग नज़र नहीं आती थी, लोग हैरान हो हो कर चारों तरफ देखते थे लेकिन कुछ … Continue reading

Posted in Pakistani Writers | Tagged , , , , , , , | 20 Comments